Home अभी-अभी किसान आंदोलन की आड़ में देश व मोदी विरोधियों ने हाथ मिलाए,...

किसान आंदोलन की आड़ में देश व मोदी विरोधियों ने हाथ मिलाए, यूथ कांग्रेस उत्तराखंड का ट्वीट देश विरोधी – भाजपा

33
0
SHARE

देहरादून : भारतीय जनता पार्टी उत्तराखंड के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ देवेंद्र भसीन ने कहा कि गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में किसान आंदोलन के नाम पर हुई अराजकता से फिर सिद्ध हो गया है कि किसानों की आड़ में राष्ट्र विरोधी व मोदी जी के विरोधियों ने हाथ मिला लिए हैं। इस आंदोलन की आड़ में पाकिस्तान व कुछ अन्य ताकते भी भारत विरोधी अपना खेल खेल रही हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि लाल क़िले के घटनाक्रम पर युवक कांग्रेस उत्तराखंड द्वारा किया गया ट्वीट देश विरोधी व कांग्रेस की मानसिकता का परिचायक है। इस ट्वीट पर कार्यवाही होनी चाहिए।

Twitte of Uttarakhand Youth Congress twitter handle

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ देवेंद्र भसीन ने एक बयान में कहा कि कृषि क़ानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन में कई ऐसे तत्व हैं जो किसी भी क़ीमत पर समाधान नहीं चाहते। इनमें से कुछ तत्व देश विरोधी व अलगाव वादी है जबकि कांग्रेस व वामदलों सहित कई तत्व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के घोर विरोधी हैं और मोदी विरोध में वे देश विरोध तक चले जाते हैं।

उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन की आड़ में देश विरोधियों व कांग्रेस वाम दलों सहित मोदी विरोधियों ने हाथ मिला लिए हैं और उनका षड्यंत्र गणतंत्र दिवस पर देश व दुनिया के सामने आया है । इस सारे खेल में पाकिस्तान ख़ालिस्तानी व दूसरी भारत विरोधी ताकते भी पूरी तरह सक्रिय हैं। अफ़सोस की बात यह है कि कांग्रेस भी उनके साथ खड़ी है। साथ ही किसानों का नेतृत्व असफल भी हुआ है और षड्यंत्रकारियों के हाथों में खेल गया है ।

डॉ देवेन्द्र भसीन ने कहा कि गणतंत्र दिवस पर लाल क़िले की घटना के बाद युवक कांग्रेस उत्तराखंड द्वारा किया गया ट्वीट देश विरोधी है।यह ट्वीट कांग्रेस की मानसिकता का परिचायक है । इस ट्वीट का विरोध होने पर इसे हटा तो लिया गया लेकिन हटाने से न षड्यंत्र छुप सकता है और न मानसिकता बदल सकती है । इसके लिए कांग्रेस को देश से माफ़ी माँगनी चाहिए । साथ ही इस पर कार्यवाही भी की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि इस संवेदनशील स्थिति में सभी को सावधान रहने की ज़रूरत है । साथ ही किसानों को भी सारी स्थिति के बारे में विचार करना चाहिए। क्योंकि अब यह साफ़ हो गया है कि आंदोलन की आड़ में किसानों हित नहीं कुछ और जो देश व किसानों के लिए घातक है चल रहा है । सच यह है कि कृषि क़ानून किसान हित में है और देश विरोधी, बिचौलिये व मोदी विरोधी किसानों का हित न चाह कर कुछ और चाहते हैं।