Home अभी-अभी फार्म मशीनरी बैंक से जुडे़गें किसान तो होगा काश्तकारी में फायदा।

फार्म मशीनरी बैंक से जुडे़गें किसान तो होगा काश्तकारी में फायदा।

25
0
SHARE

अरविन्द थपलियाल

उत्तरकाशी : केन्द्र सरकार की महत्वकाक्षी योजना फार्म मशीनरी बैंक किसानों के लिये महत्वपूर्ण हो सकती है यह योजना मानव श्रम को कम करने का काम करेगी कृषि विभाग गांव में बने कृषक समूहों को 80प्रतिशत का अनुदान देगी जिससे किसान खेती करने के उपकरण खरीदेंगें जो लाभकारी हो सकतें हैं यदि सही उपयोग हुये तो मामले पर बड़कोट कृषि भू एवं सरक्षण अधिकारी राम नरेश गुलेरिया ने बताया कि कृषि विभाग किसानों के उत्थान के लिये समय समय पर ऐसी महत्वकाक्षी योजनाओं का प्रचार करता रहता है। जिससे किसानों को खेती करने में सुविधा हो सके गुलेरिया ने बताया कि यदि किसान तकनिकि उपकरणों का प्रयोग करता है तो समय की भी वचत है और समूह की आमदानी भी होगी वहीं अधिकारी बतातें हैं कि कृषि विभाग तकनिकि हल घास काटने की मशीन आटा मशीन गेहुं निकलने का थ्रेसर थान मांडने की मशीन जैसे कास्तकारी के उपरकरण हैं। इसमें निराई गुडाई और खर्पतवार निकालने जैसी मशीने हैं जिससे कास्तकारों को कम समय में अधिक लाभ होगा कृषि अधिकारी गुलेरिया ने बताया कि वह अबतक नौगांव विकासखडं के 8समूहं और चिन्यालीशौड़ के 2समूहं को लाभ  दे चुके हैं इस वर्ष के अंतराल में इससे किसानों को एक बडे़ फायदे की बात कही।

बड़कोट कृषि एवं भू सरक्षण अधिकारी ने धारी कफनौल में दो समूहों का सत्यापन किया जिसमें अधिकारी ने कृषि उपकरणों की पुष्ठी की कृषि अधिकारी ने एक सवाल के जवाब में बताया कि वह अपने स्तर से किसानों को सरकारी महत्वपूर्ण योजनाओं को पंहुचा रहे हैं और किसानों से संपर्क में हैं जिससे समय समय पर किसानों की समस्याओं को समझा जा सके।

नौगांव विकासखडं और चिन्यालीशौड़ में कृषि योजनाओं सहित बीज भी समय समय पर वितरण किया जाता रहा है अभी सेकडो़ किसानों मसुर और गेंहु का बीज वितरण किया गया और ड्रीप योजना के अंतर्गत ड्रीप पैप और सिंचाई टैंकों की बात कही अब सवाल यह है कि किसान इसका फायदा उठातें हैं या नहीं और यह उपकरण जमीन पर कितने कारगर सावित होतें हैं यह सब समय के गर्त में यह जानकारी भू एवं कृषि अधिकारी ने तब दी जब किसानों के तकनिकि उपकरणों की पुष्ठी कर रहे थे मौके पर पृतिराम नौटियाल भरत सिहं राणा भरत राम बडोनी  चैन सिहं राणा सहित दर्जनभर किसान मोजुद रहे।