April 14, 2021
Pradesh News24x7
  • Home
  • अभी-अभी
  • सर्वोच्च न्यायालय मानिटरिंग कमेटी व पालिका ने कैरिंग कैपिसिटी पर बैठक आयोजित।
अभी-अभी उत्तराखंड देहरादून सामान्य

सर्वोच्च न्यायालय मानिटरिंग कमेटी व पालिका ने कैरिंग कैपिसिटी पर बैठक आयोजित।

बिजेंद्र पुंडीर

मसूरी। मसूरी की कैरिंग कैपेसिटी पर नगर पालिका परिषद एवं सर्वोच्च न्यायालय मानिटरिंग कमेटी ने बैठक आयोजित की जिसमें जनप्रतिनिधियों ने कहा कि विगत वर्षों में मसूरी की समस्याओं का समाधान नहीं हो पाया है। पार्किंग, यातायात व्यवस्था, आवासीय समस्या, कूड़ा प्रबंधन व पर्यावरण पर कोई ठोस कार्य नहीं किया गया।

नगर पालिका सभागार में आयोजित बैठक में सर्वोच्च न्यायालय मानिटरिंग कमेटी के सचिव एमसी घिल्डियाल ने कहा कि वर्तमान में मसूरी की कैरिंग कैपिसिटी पर ठोस कार्य नहीं किया गया हालांकि कई सुझाव सरकार को दिए गये। वर्तमान में मसूरी पर जनसंख्या का दबाव बढ़ा है, उसके हिसाब से सर्वे किया जा रहा है जो डा. आरबीएस रावत के नेतृत्व में शुरू किया गया है जो दूनघाटी के सलाहकार हैं। इस मौके पर आरबीएस रावत ने कहा कि मसूरी को पहाड़ों की रानी कहते हैं उसकी गरिमा व अपना व स्वर्णिम इतिहास है यहां देश विदेश के लोग प्राकृतिक संौंदर्य को निहारने आते हैं लेकिन यहां की चार प्रमुख समस्याएं है जिन पर आगे कार्य किया जाना है जिसमें मसूरी की जलापूर्ति पूरी कैसी हो।वर्तमान में सात एमएलडी पानी है व सीजन में 15 एमएलडी पानी की जरूरत होती है। दूसरा यातायात नियंत्रण कैसे किया जाय, पार्किंग की समस्या का समाधान कैसे हो सके, तीसरा कूड़ा प्रबंधन कैसे किया जाय व बायो मेडिकल वेस्ट का निस्तारण किस तरह किया जाय साथ ही प्र्यावरण संरक्षण पर कैसे कार्य हो सके। इस मौके पर व्यापार संघ के अध्यक्ष रजत अग्रवाल, उत्तराखंड होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप साहनी, प्रदीप भंडारी, शूरवीर भंडारी, सभासद जसबीर कौर, राम प्रसाद कवि, मसूरी होटल एसोसिएशन के महामंत्री संजय अग्रवाल आदि ने अपने विचार व्यक्त किए व मसूरी की समस्याओं को सामने रखा जिसमें आवासीय समस्या, होटलों में पार्किंग न होना, आवारा पशुओ बंदर, कुत्तों व गायों से सुरक्षा, मालरोड अतिक्रमण, मास्टर प्लान का न होना, प्राथमिक विद्यालयों को अंग्रेजी माध्यम में बदलना, अवैध अतिक्रमण हटाना, वेडर जोन का निर्माण आदि समस्याओं को रखा गया। इस मौके पर पूर्व विधायक जोत सिंह गुनसोला ने भी समस्याओं पर विचार व्यक्त किए व कहा कि मसूरी को बचाने के लिए आये सुझावों को गंभीरता से लेकर इनका सुधार किया जाय। अंत में पालिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल ने सभी का आभार व्यक्त किया व कहा कि अगर समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो आने वाले समय में और परेशानी होगी जिसका प्रभाव पर्यटन पर पड़ेगा। इस मौके पर सुभाषिनी बत्र्वाल, भरोसी रावत, जल संस्थान अधिशासी अभियंता एसके सैनी, सहायक अभियंता टीएस रावत, डीसी खंडूरी, पालिका ईओ एमएल शाह,विरेंद्र पंवार, बीना पंवार, एके खुल्लर, रमेश भंडारी, सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

Related posts

कार्य के प्रति लापरवाही नहीं की जायेगी बर्दाश्त – सीएम त्रिवेन्द्र

नैनी-दून जनशताब्दी में लगाया जाए अतिरिक्त वातानुकूलित कोच : विधायक जोशी

pradeshnews24x7

भराड़ीसैण को दिया जाएगा आदर्श पर्वतीय राजधानी का रूप – सीएम त्रिवेन्द्र

Leave a Comment