April 19, 2021
Pradesh News24x7
  • Home
  • अभी-अभी
  • मालरोड पर बह रहा सीवर, अधिकारी समाधान के बजाय कर रहे हाथ खडे़।
अभी-अभी उत्तराखंड देहरादून समस्या

मालरोड पर बह रहा सीवर, अधिकारी समाधान के बजाय कर रहे हाथ खडे़।

बिजेंद्र पुंडीर

मसूरी : पर्यटन सीजन के दौरान पर्यटकों को जाम के साथ ही सीवर की समस्या से भी जूझना पड़ रहा है। अगर बात मालरोड की ही की जाय तो पूरी मालरोड मे चार स्थानों पर सीवर बह रहा है। लेकिन विभागीय अधिकारी समस्या का समाधान करने के बजाय अपना पल्ला झांड़ रहे हैं। और पर्यटकों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

पर्यटन नगरी में सीजन से पूर्व अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठकें सीजन की तैयारियों के लिए की जाती हैं। उस समय अधिकारी सारी व्यवस्थाएं चैकस होने के दावे किए जाते हैं और जब सीजन आता है तो सारी व्यवस्थाएं चरमरा जाती हैं और अधिकारी हाथ खड़े कर रहे हैं। इन दिनों मालरोड पर लाइब्रेरी बाजार, घोड़ास्टैण्ड अंबेडकर चैक सहित अन्य स्थानों पर दिन दहाड़े सीवर बह रहा है। लेकिन जल संस्थान के अधिकारी मौज मस्ती कर रहे हैं जब उनसे इस संबध में कहा जाता है तो वे समस्या का समाधान करने के बजाय हाथ खड़ा कर देते हैं। उच्चाधिकारियों को दिखाने के लिए सीवर की समस्या से निपटने के लिए शाकिंग मशीन मंगाई गई है जब कहा गया कि उससे बहते सीवर का समाधान करें तो कागज पूरे न होने का बहाना बनाया जाता है अगर महीनों से कागज नहीं बने तो उसका ,खामियाजा पर्यटक क्यों भुगते इससे साफ जाहिर है कि विभागीय अधिकारियों ने उच्चाधिकारियों को गुमराह किया है। सीवर बहने से मालरोड पर टहलते पर्यटकों को वाहनों से छीटे पड़ रहे है वहीं दुर्गध से दो चार होना पड़ रहा है। जिससे मसूरी की व्यवस्थाओं पर सवालिया निशान खड़ा हो रहा है।

मसूरी की सीवर व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए करोड़ो रूप्ये की योजना बनी लेकिन आज तक उसका लाभ नहीं मिल पाया। पूर्व पालिकाध्यक्ष ओपी उनियाल ने कहा कि उनके समय करीब 70 करोड़ की सीवर योजना का कार्य शुरू किया गया था लेकिन अभीतक योजना पूरी नहीं हो पायी। जिसका खामियाजा सीजन के दौरान पर्यटकों को उठाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में पुरानी योजना से ही काम चलाया जा रहा है लेकिन विभागीय अधिकारी अपने ही उच्चाधिकारियों व जनता को गुमराह कर रहे है, वहीं समस्या का समाधान करने के बजाय हाथ खड़े कर रहे हैं जो प्र्यटन हित में नहीं है उन्होंने यह भी कहा कि सीवर बहने की पीछे जिन प्रतिष्ठानों के कारण परेशानी हो रही है उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जानी चाहिए। वहीं उन्होंने कहा कि अगर जल सस्थान सीवर व्यवस्था की समस्या का समाधान नहीं करता तो नगर पालिका स्वास्थ्य विभाग को जल संस्थान का चालान करना चाहिए।

Related posts

200मीटर गहरी खाई में गिरी कार दो लोगों की मौके पर मौत

Pradesh News24x7

बोर्ड परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टिप्स

pradeshnews24x7

औली – अवैध निर्माण पर प्रशासन ने की कार्यवाही।

PradeshNews24x7.com

Leave a Comment