April 14, 2021
Pradesh News24x7
  • Home
  • अभी-अभी
  • जब तक रहेगी सांस बच्चों के लिए लिखता रहुंगा- पदमश्री रस्किन बांड
अभी-अभी उत्तराखंड देहरादून सामान्य

जब तक रहेगी सांस बच्चों के लिए लिखता रहुंगा- पदमश्री रस्किन बांड

कपिल मलिक

मसूरी : बच्चों के चहेते अंग्रेजी लेखक पदमभूषण रस्किन बाँड ने अपना 84 वां जन्मदिन अपने पारवारिक मित्रों के साथ सादगी से मनाया…घर पहुंचे पावारिक मित्र के साथ केक काटकर रस्किन बांड ने अपना जन्मदिन मनाया..रस्किन कहते है कि जब तक आखरी सांस है बच्चों के लिए लेखन का काम करते रहेगें

रस्किन बांड का जन्म 19 मई 1934 को हिमाचल प्रदेश के कसौली में हुआ था..मूल रुप से रस्किन बाँड का परिवार बिट्रेन के रहने वाले है ..रस्किन को पढाई लिखाई का बचपन से ही बङा शौक रहा है ..पहली कहानी रुम आँन दि रुफ रस्किन ने मात्र 17 साल की उम्र में लिख दी थी ..1957 में रस्किन को काँमनवेल्थ राइटिंग के रुप में जाँन लिवलिन रेज प्राइज पुरुस्कार भी मिला था ..रस्किन ने एक सौ से अधिक कहानी ,उपन्यास ,कविताएं लिखी है ..1963 में रस्किन बांड पहाङो की रानी मसूरी आ गये .. रस्किन बांड की उपन्यास पर कई बाँलीबुड फिल्मे बन चुकी है

रस्किन बांड घर पर आज भी 84 साल की उम्र में अपना काम खुद करते है ..रस्किन बांड की बहु बीना कहती है की आज भी रस्किन घर पर अपना पुरा काम करते है

रस्किन बाँड 84 साल में भी निरंतर लेखन का काम कर रहे है…रस्किन ने अपने जन्मदिन पर अपने बच्चों से वादा किया है कि उनके लिए अभी भी किताबें लिखूंगा ..नये लेखकों से रस्किन ने अपील की है कि जितना अच्छा हो लिखने का प्रयास करें .ऐसी कुछ नही लिखे जिससे समाज में कोई नकारात्मक असर न पङें

Related posts

मसूरी मे बीएसएनएल की फाइबर टू सेवा का उदघाटन।

pradeshnews24x7

संदिग्ध परिस्थितियों मे नर हाथी की मौत

pradeshnews24x7

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने की समीक्षा, अधिकारीयों को दिए निर्देश।

pradeshnews24x7

Leave a Comment