April 19, 2021
Pradesh News24x7
  • Home
  • अभी-अभी
  • कश्मीरी दुकानदारों को हटाने की मुहिम धीमी पंड़ी, जब तक अनुबंध है नहीं हटाया जायेगा
अभी-अभी उत्तराखंड देश देहरादून

कश्मीरी दुकानदारों को हटाने की मुहिम धीमी पंड़ी, जब तक अनुबंध है नहीं हटाया जायेगा

मसूरी। पर्यटन नगरी मसूरी में कश्मीरी दुकानदारों को हटाने की मुहिम अब ठंडी पड़ने लगी है। हालांकि गत वर्ष कश्मीरी व्यवसायियों के खिलाफ मुहिम चली थी कि उन्हें यहाँ व्यापार रकने से रोका जाय। इसको लेकर उन दिनों मामला काफी गर्म रहा था। व प्रदर्शन कर सरकार को ज्ञापन भी दिया था।

मसूरी में कश्मीर से आकर व्यापार करने वालों के खिलाफ गत वर्ष काफी आक्रोश स्थानीय लोगों व व्यापारियों में हो गया था। पहले तो मसूरी व्यापार संघ ने कश्मीर से आकर फेरी लगा कपड़े बेचने वालों के खिलाफ मुहिम चलाई क्यों कि स्थानीय व्यापारियों का कहना था कि ये मालरोड व अन्य स्थानों पर जाकर कपड़ा बेचते हैं जबकि ये न ही किराया, न ही बिजली पानी व न ही किसी प्रकार का कर देतें हैं जबकि दुकानदार सभी कर देता है। ऐसे में दुकानदारों का व्यवसाय प्रभावित हो रहा था। इसी बीच 17 जून वर्ष 2017 को चैंपियन ट्राफी क्रिकेट के एक मैच में पाकिस्तान ने भारत को हराया था, जिस पर कुछ युवकों ने मध्यरात्रि को पाकिस्तान के समर्थन व भारत के विरोध में नारेबाजी कर प्रदर्शन किया था जिस पर कोतवाली में शिकायत की गई थी जिस पर गिरफतारी भी हुई थी वहीं ठीक एक माह बाद 18 जुलाई को एक मामला और आया व कुलड़ी क्षेत्र में एक पुराने कश्मीरी व्यापारी ने फेसबुक पर पाकिस्तान वीडियों को लाइक व शेयर करने का मामला आया जिस पर खासा हंगामा हुआ व उसकी जांच भी पुलिस कर रही है। इन मामलों के बाद मसूरी से कश्मीरी व्यवसायियों को सुरक्षा की दृष्टिसे संदिग्ध मानते हुए हटाने की बात हुई थी व तब तय किया गया था कि 28 फरवरी 2018 के बाद कश्मीरी दुकानदारों को हटा दिया जायेगा। जिन स्थानीय दुकानदारों ने दुकाने किराये पर दी हैं वह उनसे दुकान खाली करायेंगे। इस संबंध मे भाजपा नेता धर्मपाल पंवार का कहना है कि विगत दिनों घटी घटनाओं के बाद स्वाभाविक था कि यहां व्यापार करने आने वाले कश्मीरियों पर सुरक्षा की दृष्टि से शंका की जाय। लेकिन अभी तक ऐसा कुछ नहीं पाया गया। व्यापार संघ के माध्यम से तय किया जा रहा है कि जिन लोगों ने दुकानें दी है उन्हें भविष्य में उनका समय सीमा समाप्त होने के बाद दुकाने न दी जाय। वहीं व्यापारसंघ अध्यक्ष रजत अग्रवाल का कहना है कि जिस समय यह घटना घटी थी तब विरोध करना स्वाभाविक था लेकिन जिन स्थानीय दुकानदारों ने दुकाने एक साल से लेकर तीन साल तक दे रखी हैं उनसे तय समय सीमा के बाद ही दुकान देने या न देने के बारे में कहा जा सकता है।

उससे पहले कोई कुछ नहीं कर सकतां। कांग्रेस अध्यक्ष सतीश ढौडियाल का कहना है कि देश का कोई भी नागरिक भारत के किसी भी कोने में आ जा सकता है व्यापार कर सकता है उसे कोई रोक नहीं सकता यह हमारा संवैधानिक अधिकार है। जाति व क्षेत्र के नाम पर किसी को नहीं हटाया जा सकता यह भारत का संविधान कहता है। इस संबंध में कश्मीरी व्यापारी अल्ताफ ख्वाजा का कहना है कि हम भारतीय हैं तथा यहाँ काम करने आ रखे हैं। विगत दिनों व्यापार संघ ने कहा था कि 28 फरवरी को कश्मीरी व्यवसाय करने वालों को हटा देंगे लेकिन अब व्यापार संघ भी हमारी बात समझ गया है तथा उन्होंने भरोसा दिलाया कि किसी के साथ अन्याय नहीं होने देंगे। अगर इसके बाद भी परेशान किया गया तो हमं दिल्ली तक जायेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि इस संबंध में उन्होंने विधायक गणेश जोशी को भी पत्र दिया है उन्होंने भी समाधान का आश्वासन दिया है।

Related posts

उत्तरकाशी पहुंची माउंटेन साइकिलिंग रैली

pradeshnews24x7

चरणबद्ध तरीके से सभी लोगों का कोविड टीकाकरण किया जायेगा- सीएम त्रिवेन्द्र

PradeshNews24x7.com

पालिकाध्यक्ष ने नामित सभासदों को शपथ दिला अधिष्ठापित किया।

PradeshNews24x7.com

Leave a Comment