Home अभी-अभी “shesparks2018” पुरस्कार से नवाजी गयी पैनखंडा की बेटी प्रेक्षा कपरुवाण

“shesparks2018” पुरस्कार से नवाजी गयी पैनखंडा की बेटी प्रेक्षा कपरुवाण

263
0

सोनू उनियाल

देश  के प्रतिस्तिठ संस्थान ‘योर स्टोरी (बँगुलुरु )ने  दिल्ली  के  इंडियन हैबिटेट सेंटर में स्टार्टअप इँडिया के तहत काम कर रही 23 महिलाओ को विभिन्न क्षेत्रों में अहम  योगदान  के लिये shesparks अवार्ड  2018 से पुरस्कृत किया! ज्ञात  रहे की योर  स्टोरी  नाम  का ये संस्थान सबसे प्रसिध  स्टार्टअप मीडिया कम्पनी है जिसने कि 2016 मैं लाजिनेक्स्ट , फ्रेशडेस्क , केपलरी  के साथ  रियल बॉक्स डाटा एनालिट्क्स   कम्पनी को  भारत की  30 सर्वोच्च कम्पनी  के  लिये  चयन किया  था .

प्रेक्षा कपरुवाण ने भी उन 23 उद्यमियों में अपना नाम अंकित किया, और प्रौद्योगिकी के  क्षेत्र में  यह  पुरस्कार जीता!

बता  दें  कि पैनखंडा की यह बेटी  नोयडा में रियल बॉक्स डाटा एनालीतीक्स नामक  कम्पनी  की सह-संस्थापक  और  चीफ मार्केटिंग ऑफीसर  भी हैं!

कम्पनी इस समय दुबई और  कुवैत मैं भी  काम कर रही है और शीघ्र  दुबई  और  कुवैत मैं  अपने  आफिस  खोलने  वाली  है .

विश्वा  की  कम्पूटर मैं  अग्रणी कम्पनी माइक्रोसॉफ्ट  ने देश  की  बड़ी सिनेमा कम्पनी पीवीआर  पर  रियल बॉक्स के  काम की  कैस स्टडी की है . तथा वर्तमान मैं  माइक्रोसॉफ्ट  की  co selling partner  भी  हैं  . इसके अलावा कम्पनी डाटा  एनालीतीक्स  के जरिये देश  की  कई बड़ी कम्पनियो को  उनके  पिछले व्यापारिक गतिविधियाँ  को नये  सिरे  से भविष्य मै  व्यापार बढ़ाने के  तौर तरीके और  फंडिंग करना सीखा  रही  है .

चमोली जिले का एक अभूतपूर्व शहर जोशीमठ जो कि सम्पूर्ण विश्व में धार्मिक और पर्यटन नगरी के रूप में विख्यात है, वहां जन्मी एक बुद्धिजीवी, आज विश्व पटल पर पैनखंडा समुदाय का परचम फहरा रही हैं!

जोशीमठ के चौडारी ग्राम की यह निवासी एक अत्यंत सामान्य मध्यम वर्ग से है और उत्साह व प्रयत्नशीलता का अग्रणी उदाहरण है! आइये आपको ज्ञात कराते हैं उनकी साधारणता में विशेषता की कहानी कैसे शुरू हुई!

सन १९८९ को जोशीमठ में जन्मी इस नन्ही बालिका को बचपन से ही ख़ुशमिज़ाजी की आदत थी! इस आदत को बुलंद रखने के लिए हौंसला भी फिर अप्रतिम ही था! इस कारणवश ये हमेशा सामान्य चीज़ों को नए नए ढंग से अंजाम देने के लिए आतुर रहा करतीं थी! जोशीमठ के प्राथमिक शिक्षा से शुरू हुआ ये सफर, आज विश्व की गगनचुम्बी इमारतों के नायाब सम्मेलन कक्षों में उनके हुनर का गुणगान करते स्पीकरों एवं कम्प्यूटरों पर उनके द्वारा दी जा रही प्रस्तुतियों द्वारा चलायमान है!

एक मध्यमवर्गीय अनुशाशनप्रिय परिवार में प्रेक्षा का पालन पोषण अत्यंत स्नेह व संयम के साथ हुआ! इनके पिता श्री प्रबोध चंद्र एक सरकारी (सीमा सड़क संगठन) अधिकारी हैं एवं उन्ही के साथ स्थानांतरित होती नौकरी के चलते प्रेक्षा ने भी अलौकिक भारत के विभिन्न प्रांतों में अपनी प्राथमिक शिक्षा ग्रहण की! इनका एक अग्रज भाई भी भारत सरकार (मानव संसाधन विकास मंत्रालय) की सेवा में कार्यरत है! इनकी माताश्री प्रभा कपरूवाण बहुत ही व्यवहारकुशल व संवेदनशील महिला हैं जिन्होंने बदलते वातावरण, स्थानांतरित होती पति की नौकरी, विभिन्न वेश-परिवेश में भी बच्चों के लालन-पालन में कोई कसर नहीं रहने दी!

प्रेक्षा की उच्च शिक्षा चंडीगढ़ (पंजाब) में संपन्न हुई और स्नातक की पढाई के लिए ये राजधानी दिल्ली आ गयीं! वहीँ पर आयी. एच. एम. पूसा से खाद्य विज्ञान व होटल प्रबंधन में स्नातकी पूर्ण कर ये “इम्पीरियल पांच सितारा होटल” में अनेक प्रतिभागियों में से चयनित होकर कार्यरत हुईं! वहां देश विदेश की नामी हस्तियों (कलाकारों एवं पर्यटकों) आदि से इनका काफी कार्य-सम्बंधित वार्तालाप हुआ! वहीँ से इन्हे अपनी सूझ-बूझ व प्रेरणा को एक नयी दिशा व गति देने का सामर्थ्य प्रदान हुआ!

अपनी मंज़िल खुद तय कर इन्होने अपने निर्णय लेने शुरू किये और शीघ्र ही कुछ समान व्यक्तित्व वाले कर्मठ मंडल से इनका परिचय हुआ! एक साक्षात्कार हुआ जिसमे हर बार की तरह इन्होने खुद को अन्य प्रतिद्वंदियों से उत्तम व कार्यकुशल सिद्ध किया और उदय हुआ 2015 मै  ” *रियलबॉक्स डाटा  एनालिटिक्स* ” नामक सॉफ्टवेयर कंपनी का!

फिर तो जी तोड़ परिश्रम एवं कर्मनिष्ठा की बुनियाद पर खरे उतरते इस समूह ने कई प्रतियोगिताएं जीती, or  राष्ट्र स्तर पर अपने परचम लहराये   ! अनेकों उपलब्धयों के बावजूद प्रेक्षा ने अपने उत्साह व कर्मनिष्ठा में कोई कमी नहीं आने दी! 2016 मै प्रधानमंत्री मोदी के “स्टार्ट अप  इंडिया”(मेक इन इंडिया)को  प्रौद्योगिकी के  क्षेत्र मैं नये  आयामों तक  पहुँचा रही है ।  इसी तरह अपनी कार्यकुशलता से प्रभावित कर इन महत्त्वाकांक्षी लोगों ने अपनी कंपनी  के लिए धनराशि एकत्रित की और “माइक्रोसॉफ्ट” जैसी सर्वोत्तम कंपनी के साथ सम्बन्ध स्थापित किया! अपने वर्चस्व एवं कर्तव्यनिष्ठा के बल पर आज इन्हे “माइक्रोसॉफ्ट bizz spark next big  100 companies  हैं. प्रेक्षा व उनकी टीम को अनेकों उपलब्धियों व सॉफ्टवेयर क्षेत्र में उनके योगदान के लिए सराहा व पुरस्कृत किया जाता रहा  है !!! हाल ही में संपन्न हुए एक समारोह में “योर स्टोरी”नाम  के  देश  के नामी   संस्थान ने प्रेक्षा को सॉफ्टवेयर क्षेत्र में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया  और  प्रोद्योगिकी  तथा  डाटा साइंस के   क्षेत्र  30 अग्रणी कम्पनियों मैं शुमार किया  है  !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here