Home अपराध महिला पर भालुओं ने किया हमला, महिला की मौत

महिला पर भालुओं ने किया हमला, महिला की मौत

340
0
SHARE

सोनू उनियाल

चमोली : चमोली जिले के दशोली ब्लॉक के स्यूंण गांव में रविवार को भालुओं के झुंड ने महिला को चट्टान से गिरा दिया जिससे महिला की घटना स्थल पर ही मौत हो गई है। जिसकी सूचना ग्रामीणों ने उपजिलाधिकारी चमोली व वन विभाग को दी। जिसके बाद एसडीआरएफ की टीम ने महिला के शव को ग्रामीणों की मदद से चट्टान से निकाला गया है।

रविवार को स्यूंण गांव निवासी महेंद्र सिंह की 35 वर्षीय पत्नी धनेश्वरी देवी अपनी गौशाला के समीप अन्य महिलाओं के साथ घास काटने गई थी। जहां घास काटने के दौरान झाडियों में छिपे तीन भालुओं ने उस पर हमला कर दिया। जिसे वह घायल हो कर चिल्लाने लगी। उसकी चीख सुनकर जब अन्य महिलाएं मौके पर पहुंची तो उन्होंने शोर मचाना शुरु कर दिया। जिस पर भालुओं ने महिला को चट्टान से धकेल दिया। घटना स्थल पर शोर सुनकर लुदाऊं गांव के ग्रामीण और चरवाहे मौके पर पहुंच गये। लेकिन इतनी देर में भालू महिला को चट्टान पर दूर ले जा चुके थे। जहां जाना संभव नहीं था, लेकिन ग्रामीणों को शोर सुन भालू महिला को चट्टान पर छोड़ जंगल की ओर भाग गये। जिसके बाद ग्रामीण जैसे-तैसे चट्टान पर पहुंचे, लेकिन तब तक धनेश्वरी देवी दम तोड़ चुकी थी। महिला के शव के चट्टान होने के चलते ग्रामीणों की मांग पर एसडीएम चमोली ने एसडीआरएफ की टीम भेजी गई। जिसके बाद महिला को चट्टान से निकाला जा सका।

आरती मैठाणी, वन क्षेत्राधिकारी, केदारनाथ वन प्रभाग,

स्यूंण गांव के ग्रामीणों की सूचना पर विभागीय टीम को मौके पर भेजा गया। महिला के चट्टानी हिस्से में फंसे होने के चलते एसडीआरएफ की मदद से महिला के शव को निकाल लिया गया है। महिला का पोस्ट मार्टम करवाया जा रहा है। पीडित को नियमानुसार पोस्ट मार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद तीन लाख के मुआवाजे का भुगतान किया जाएगा।

ग्रामीणों का आरोप

ग्रामीणों ने वन विभाग पर लगाया लापरवाही का आरोप – स्यूंण गांव में हुई घटना में ग्रामीणों ने वन विभगा के अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया  है। स्थानीय ग्रामीण रविद्र नेगी, बादर सिंह रावत, प्रताप सिंह राणा, कुलदीप सिंह नेगी का कहना है कि घटना में उपजिलाधिकारी चमोली को सूचना देने के बाद वन विभाग के अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंचे। साथ ग्रामीणों को कहना है कि गांव के आस-पास भालू होने की जानकारी वन विभाग को पूर्व में भी दी गई थी। लेकिन विभाग की ओर इस ओर गंभीरता से ध्यान नहीं दिया गया। जिसके चलते यह घटना हुई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here