Home अभी-अभी होटल उद्योग में रोजगार के बेहतर अवसर, विदेश जाने की जरूरत नहीं।

होटल उद्योग में रोजगार के बेहतर अवसर, विदेश जाने की जरूरत नहीं।

1556
0
SHARE

कपिल मलिक

मसूरी : विश्व मास्टर सैफ व नेशनल मास्टर सैफ का खिताब जीतने वाले सुरेंद्र नेगी ने कहा कि होटल उद्योग में रोजगार के अनेक अवसर हैं जिसमें उत्तराखंड के युवा अपना भविष्य बना सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि विदेश में सेवा देने से अच्छा अपने देश में सेवा देना है।

मसूरी पहुंचे विश्व मास्टर सैफ सुरेंद्र नेगी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उन्होंने 13 साल की उम्र में घर छोड़ दिया था व पंजाब के होटलों में काम किया बर्तन भी धोये। आज वह अपने कार्य से संतुष्ट हैं तथा वर्तमान में हरियाणा के पानीपत के फोर स्टार होटल में मुख्य सैफ के पद पर कार्यरत हैं। उन्होंने कहा कि नेशनल व विश्व मास्टर सैफ का खिताब दिलाने में उत्तराखंड के उत्पादों का अहम योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि विश्व सैफ प्रतियोगिता के लिए वह गोवा, बैंगलुरू, मुंबंई, आबूधाबी, मलेशिया गये व इसका फाइनल दिल्ली में हुआ था जिसमें उन्होंने झंगरी कबाब बनाया था जो उत्तराखंड के मक्की के आटे के लेप से बनाया गया था। विश्व मास्टर सैफ वर्ष 2016 में तथा नेशनल वर्ष 2009 में जीता था। विश्व मास्टर सैफ प्रतियोगिता में विश्व भर से मास्टर सैफ आये थे। उन्होंने कहा कि उन्हें नई डिश बनाने का शौक है तथा कुछ नया करने की सोचते हैं। उन्होंने यह भी बताया कि वह जो डिश बनाते है उसमें उत्तराखंड के मसाले व यहां के उत्पादों का विशेष योगदान रहता है। उन्होंने कहा कि उनकी अपनी सिगनेचर डिश में बैज लौली पौली, चिकन लौली पौली, चिकन झंगारी कबाब, मुर्ग गन प्वांइंट, मटन लौली पौली, हैं जिसमें उत्तराखंड का टच दिया जाता है। जो लोगों को बहुत पसंद है। वह खाने में अपने पर्सनल मसाले उपयोग करते हैं जिसमें जखिया, तिल, मोटा नमक, बुरांस के सूखे फूल, भंगजीर आदि प्रमुख हैं। उन्होंने उत्तराखंड के युवाओं को संदेश दिया कि वे होटल उद्योग में अपना भविष्य बनाये, तथा अपने देश में रहकर कड़ी मेहनत करें तो विदेश से अच्छा धन कमा सकते हैं। विदेश जायें तो किसी दलाल के माध्यम से न जायें।यहीं पर अच्छा पैकेज मिल सकता है। इस मौके पर मसूरी होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष आरपी बडोनी, पूरण सिंह नेगी, अनिल सिंह मौजूद रहे।

इस मौके पर होटल वर्कर्स यूनियन मसूरी ने विश्व मास्टर सैफ नेगी को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि एक गरीब परिवार से चलकर आज विश्व में नाम कमाया है, उनके पिता मसूरी में ही घोड़ा चलाते थे, ऐसे युवाओं को यहां के युवाओं को प्रेरणा लेनी चाहिए। वहीं अनिल सिंह ने भारत सरकार से मांग की है कि गत एक वर्ष से श्रीलंका में फंसे रूद्र प्रयाग के छह युवाओं को मुक्त कराया जाय। उन्होंने खेद व्यक्त किया कि रूद्रप्रयाग के विधायक व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को इस बात का संज्ञान है लेकिन उनको छुडाने का कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है।

विश्व मास्टर सैफ सुरेंद्र नेगी पुत्र प्रेम सिह नेगी गांव सेलूर पोओं कांडीखाल पटटी जुआ चंबा टिहरी गढ़वाल का रहने वाला है। उन्होंने कड़ी मेहनत कर यह मुकाम हासिल किया है। वह ड्राई सिजलिंग के भारत में अकेले सैफ हैं। जिसमें व्यंजन धुंए के आगोश में बनाया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here