Home अपराध विभिन्न मांगों को लेकर एमआईएस के श्रमिक धरने पर, प्रबंधन के विरोध...

विभिन्न मांगों को लेकर एमआईएस के श्रमिक धरने पर, प्रबंधन के विरोध करने पर हाथापाई।

82
0

बिजेंद्र पुंडीर

मसूरी : मसूरी इंटरनेशनल के कर्मचारियों ने विभिन्न मांगो को लेकर स्कूल के गेट पर धरना दिया व जमकर कालेज प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। लेकिन उस समय माहौल खराब हो गया जब स्कूल प्रबंधन की ओर से आये दो पदाधिकारियों के साथ धरने पर बैठे कर्मचारियों के साथ बहस हो गई व उसके बाद हाथापाई हो गई।

मसूरी इंटरनेशन के 46 कर्मचारी वेतनवृद्धि व डीए बढ़ाने की मांग को लेकर दून स्कूल कर्मचारी पंचायत देहरादून के बैनर तले स्कूल गेट पर धरने पर बैठ गये। व कालेज प्रशासन के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करने लगे। इस बीच स्कूल प्रबंधन के दो लोग आये व उनसे कहा कि वे धरना गेट के बाहर दें व जो लोग बाहर से आये है वो बाहर चले जायं। जिस पर कर्मचारियों व प्रबंधन के बीच बहस हो गयी व उसके बाद जमकर हाथा पाई हो गई। मौके पर मौजूद कर्मचारियों ने ही बीच बचाव किया। इस मौके पर मजदूर व सीटू के नेता सोबन सिंह पंवार ने कहा कि कि स्कूल प्रंबंधन कर्मचारियों के बीच मतभेद पैदा कर यूनियन को तोड़ने का कार्य कर रहा है तथा करीब 22 कर्मचारियों से हस्ताक्षर करवा कर उनका वेतन बढ़ा दिया व डीए भी दे दिया। जबकि यूनियन से जुड़े कर्मचारियों को वर्ष 2016 से न तो वेतन बढ़ाया जा रहा है और न डीए दिया जा रहा है जिसके बारे में कई बार विद्यालय प्रबंधन, श्रम विभाग को पत्र दिये गये लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई और मजदूरों को मजबूर होकर धरने पर बैठना पड़ा। वहीं उन्होंने स्कूल प्रंबधन की कड़े शब्दों में आलोचना की व कहा कि प्रबंधन कर्मचारियों को धमका रहा है व अभद्रता कर रहा है। इस मौके पर बैशाख सिंह मिश्रवाण, विक्रम बलूड़ी, हरी जोशी, सुखदेव सिंह राणा, मनोज कुमार, कृष्णा, संगीता, व पूर्व सभासद पूरण सिंह रावत, वीरेंद्र पंवार, पंकज खत्री, सहित बड़ी संख्या में कर्मचारी मौजूद रहे।

कर्मचारियों की मुख्य मांगों में मूल वेतन सन 2016 से 10 प्रतिशत वृद्धि व एरियर सहित दिया जाय, 2016 से रूका डीए एरियर सहित दिया जाय, वर्ष में 50दिन की छुटटी यथावत रखी जाय, वर्ष 2016 से 400 रूप्ये वार्षिक वृद्धि एरियर के साथ दी जाय। राष्ट्रीय त्योहारों के अवकाश में कटौती न की जाय, किचन कर्मियों का ओवर टाइम बढ़ाया जाय, अतिरिक्त राहत का 700 रूप्ये लागू किया जाय, श्रमिकों के साथ भेदभाव बंद किया जाय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here