Home अभी-अभी विंटेज कार रैली मसूरी पहुंची, पुरानी कारें देख लोग उत्साहित।

विंटेज कार रैली मसूरी पहुंची, पुरानी कारें देख लोग उत्साहित।

291
0
SHARE

बिजेंद्र पुंडीर

मसूरी : विश्व के विभिन्न देशों से आई विंटेज कारों ने मसूरी की सड़कों पर अपना जलवा बिखेरा। हिमालयन चैलेंज 2018 नाम से आयोजित विंटेज कार रैली में शामिल विंटेज कारें जब जेपी रेजीडेंसी मेन्योर में पहुंची तो देखने वालों की खासी भीड़ जमा हो गई।

इन्डयूरेंस रैली एसोसिएशन के तत्वाधान में आयोजित अपने आप में यह महत्वपूर्ण रैली है जो 21 सितंबर को दिल्ली से शुरू की गई व वहां से चंडीगढ़ लाहौल स्पीति होते हुए मनाली व शिमला से मसूरी पहुंचे। इस रैली के संयोजक लोकेश बग्गा ने बताया कि यह रैली 21सितंबर को दिल्ली से शुरू की गई थी जिसमें करीब 47 कारों ने प्रतिभाग किया जिसमें 36 कारें विंटेज मॉडल की है। व 90 साल से अधिक पुरानी है। उन्होंने बताया कि यह रैली दिल्ली से हिमाचल उत्तराखंड के मसूरी,ऋषिकेश, रूद्रप्रयाग होते हुए नैनीताल जायेगी व वहां से नेपाल जायेगी तथा वहां से वापस लखनउ होते हुए आगरा में आगामी 11 अक्टूबर को इसका समापन होगा। होटल के उपाध्यक्ष अनिल शर्मा ने बताया कि यह विंटेज कार रैली मसूरी व होटल के लिए गर्व की बात है और इस रैली का उत्सुकता से प्रतीक्षा की जा रही थी। क्यों कि इस रैली में सभी पुरानी गाड़िया हैं और खास बात यह है कि इन्हें चलाने वाले भी बुजुर्ग हैं। यह वास्तव मंे चैलेंज है कि पुरानी गाड़ियां आज भी पहाड़ों पर चढ रही हैं। उनकी मेंटीनेंस गजब की, की गई है। इस मौके पर रैली में प्रतिभाग कर रहे आस्ट्रेलिया के पीटर सेंटजार्ज, सबस्टाईन स्लाजयेनसकी यूएसए, माइकल ड्रापर ग्रेट ब्रिटेन, ग्राहम गुडवेन ग्रेट ब्रिटेन ने कहा कि हिमालय में विंटेज कार चलाने का अच्छा अनुभव रहा तथा चैलेंजिंग भी रहा। मनाली में भारी बारिश के कारण सड़के खराब हो गई हैं पुल व रोड भूस्खलन से बंद है जहां खासी परेशानी हुई। वहीं उत्तराखंड व मसूरी खूबसूरत है तथा यहां पर रोड सहित सभी सुविधांए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि यहां पर टैªफिक अधिक है। प्रतिभागियों ने कहा कि जिस स्थान पर भी गये वहां पर उनके साथ बहुत अच्छा व्यवहार किया गया व यहां के लोग मिलनसार व सहयोगी हैं। वे इस रैली का पूरा आंनद ले रहे हैं। रैली में कई  बुजुर्ग मंहिलांए भी साथ हैं।

रैली में 1920से लेकर 1931 तक की आठ विंटेज कारें, 1932 से 1947 तक की तीन कारें, 1947 से 1975 तक की 9 क्लासिक कारे अप टू 2एलटीआर, व 1947 से 1975 तक की क्लासिक कार ओवर 2एलटीआर 16 कारें हैं। बाकी 11 कारें स्टाफ, डाक्टर व मैकेनिकों की साथ में चल रही हैं। इन कारों में बिन्टले,चेरेस्लर, रॉककिन, मौरिस आक्सफोर्ड, फोर्ड, पोरस्चे, वाल्वो, प्यूगियोट, सेवरलेट, सनबीम आस्टिन आदि लोग थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here