Home अभी-अभी वनाग्नि रोकथाम को कार्यशाला का आयोजन

वनाग्नि रोकथाम को कार्यशाला का आयोजन

140
0
SHARE

जय प्रकाश बहुगुणा

उत्तरकाशी : जनपद में वनाग्नि के रोकथाम के लिये आपदा प्रबंधन व वन विभाग के तत्वधान में प्रेक्षागृह में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया । जिसमें आपदा , एसडीआरएफ, पुलिस , आईटीबीपी, फायर, वन ,राजस्व आदि विभागों द्वारा प्रतिभाग किया गया । कार्यशाला में प्रभागीय वनाधिकारी ने वनाग्नि की रोकथाम के लिये विभिन्न प्रकार की तकनीकियों के बारे में विस्तृत जानकारियां दी , जिससे वनों में लगी आग पर नियंत्रण पाया जा सके तथा उन्होनें कहा कि उचित उपकणों व संसधानों के माध्यम से आग पर काबू पाया जा सकता है । उन्होनें कहा कि सभी विभाग आपसी तालमेल से कार्य कर वनाग्नि पर नियंत्रण करेगें ।
कार्यशाला को सम्बोन्धित करते हुए जिलाधिकारी डा0 आशीष चौहान ने कहा कि वनाग्नि के रोकथाम के लिये आपसी समवन्य होना जरूरी है सभी मिलकर ही वनाग्नि पर नियंत्रण पा सकते है इसीलिये सभी विभाग आपसी समवन्य स्थापित कर कार्य करना सुनिष्चित करेगें । उन्होनें कहा कि वनों से लगे ग्रामवासियों को वनाग्नि के प्रति जागरूक करें तथा वनाग्नि के दुस्परिणामों के बारे में भी बताये । उन्होनें कहा कि वनों में जहां आग लगने से हमारी वन सम्पदा नश्ट होती है वहीं इससे हमारे पर्यावरण पर भी काफी दुस्प्रभाव पड़ता है। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी विभागीय अधिकारी, कर्मचारी तैयार रहे ताकि वन में आग लगने की सूचना मिलते ही क्षेत्र में जाकर आग पर नियंत्रण पाया जा सके ।
जिला मुख्यालय व तहसील स्तर पर इसके लिये कन्ट्रोल रूम स्थापित है जिससे वनाग्नि सम्बन्धित जानकारियां तुरंत उपलब्ध हो सके । प्रभागीय वनाधिकारी संदीप कुमार ने बताया कि जनपद में लगभग 8 लाख हैक्टेयर भूमि क्षेत्रफल है जिसमें से 6.96 हैक्टेयर वनाच्छादित है 80 हजार हैक्टेयर वन ग्रामों व शहरों से लगे है लगभग 40 हजार हैक्टेयर वन आग की दृश्टि से संवेदनशील चिन्हित किये गये है । उन्होनें बताया कि वनाग्नि को नियंयत्रित करने हेतु 140 क्रु- स्टेशन बनाये गये है तथा 600 फायर वॉचर लगाये गये है जो वनाग्नि व आग लगाने वालों पर पैनी नजर रखेगें ।
अपर जिलाधिकारी हेमंत वार्मा ने कहा कि आग बुझाना व नियंत्रित करना हम सभी का दायित्व है उन्होनें कहा आग पर निंयत्रण पाने के लिये जोश के साथ होश की भी जरूरत होती है इसलिए तकनीकि का प्रयोग किया जाए ।
कार्यशाला में प्रभागीय वनाधिकारी टिहरी डैम यूके सिंह , पुलिस उपाधीक्षक कमल सिंह पंवार , सहायक कमान अधिकारी आईटीबीपी अमित कुमार , आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल , समन्यवक जय पंवार , शार्दुल गुसांई, आदि मौजूद थे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here