Home अभी-अभी लोकतंत्र की नींव रखने में पीठासीन व मतदान अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका...

लोकतंत्र की नींव रखने में पीठासीन व मतदान अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका -डीएम

227
0
SHARE

जय प्रकाश बहुगुणा

उत्तरकाशी : लोक सभा सामान्य निर्वाचन 2019 को निष्पक्ष, पारदर्शिता व शान्तिपूर्ण सम्पन्न कराने हेतु सेक्टर, जोनल मजिस्ट्रेट के साथ ही प्रशिक्षण के प्रथम चरण में 557 पीठासीन व मतदान अधिकारी प्रथम को मतदान एवं ईवीएम वीवीपैट का जिला कार्यालय प्रेक्षागृह व पीजी कॉलेज प्रेक्षागृह में प्रशिक्षण दिया गया।
प्रशिक्षण में मौजूद जोनल,सेक्टर मजिस्ट्रेट मतदान अधिकारी को संबोंधित करते हुए जिला निर्वाचन अधिकारी डा. आषीश चौहान ने कहा कि लोकतंत्र की नींव रखने में पीठासीन व मतदान अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में निर्वाचन में अति महत्वपूर्ण कार्य है निर्वाचन प्रक्रिया को शान्तिपूर्ण व निष्पक्ष ढंग से सम्पन्न कराना हम सभी की जिम्मेदारी है। सभी मतदान कार्मिक निश्पक्षतापूर्वक निर्वाचन सम्पन्न कराएं। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि निर्वाचन कार्य में किसी भी प्रकार की त्रुटि क्षम्य नही होती है,इस हेतु ईवीएम वीवीपैट का प्रशिक्षण में जो भी जानकारी दी जा रही है उनको भलीभांति सीख लें। प्रशिक्षण पूर्ण गंभीरता से लें जो भी शंका हो उसका अवश्य समाधान कर लें, ताकि निर्वाचन के दौरान किसी भी प्रकार की समस्या न हो। उन्होंने कहा कि सभी कार्मिक आर्दश आचार संहिता का पूर्ण पालन करें तथा मतदान पार्टीयां मतदेय स्थल तक पंहुचने की तत्काल सूचना सेक्टर जोनल मजिस्ट्रेट को देंगे। मतदान पार्टियां किसी भी प्रकार का अतिथ्य स्वीकार नहीं करेंगे व मतदेय स्थल में ही अनिवार्य रूप से रात्रि विश्राम करेंगे। उन्होंने कहा कि मॉक -पोल अनिवार्य रूप से कराना हैं व मॉक पोल कराकर निर्धारित समय पर मतदान प्रारम्भ कराना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने कहा मतदान प्रारम्भ होने की सूचना तत्काल अपने सेक्टर जोनल के साथ ही सहायक रिर्टनिंग आफिसर को देंगे व प्रति दो घण्टें मतदान की सूचना भी अनिवार्य रूप से देगें। उन्होंने कहा कि जहां मोबाईल की क्लियर क्नेक्टिवीटी के कारण बात नहीं हो पाती है वहां के मतदान पार्टियां एसएमएस के द्वारा उपरोक्त सूचनाएं उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने निर्देश दिए कि ईवीएम ,वीवीपैट मशीन को लाने व ले जाने में पूर्ण सावधानी बरती जाए। उन्होंने कहा कि मतदेय स्थल के 100 मीटर की परिधि में प्रचार-प्रसार की साम्रगी कतई न लगने दी जाए व मतदाताओं के फोटो पहचान पत्र के साथ ही आयोग द्वारा मान्य अन्य दस्तावेजों का सावधानी से परीक्षण कर नामावलियों से मिलाकर मतदान कराएं। ताकि किसी प्रकार की त्रूटि न हो। उन्होंने प्रशिक्षण दौरान नोडल अधिकारी ईवीएम को ईवीएम व वीवीपैट संबंधी पूर्ण जानकारियां मतदान कर्मियों के मोबाईल में भेजने के निर्देष भी दिए।
प्रशिक्षण में नोडल अधिकारी प्रशिक्षण आरसी आर्य ,नोडल अधिकारी ईवीएम आरएस रावत, मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षण डीडी रतूड़ी, द्वारा निर्वाचन संबंधित विस्तृत जानकारियां दी गई। उप निर्वाचन अधिकारी हेमंत वर्मा व सहायक रिर्टनिंग आफिसर देवेन्द्र नेगी द्वारा जानकारियां दी व अपने अनुभव भी बांटे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here