Home अभी-अभी राज्य आंदोलन में मसूरी के शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

राज्य आंदोलन में मसूरी के शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

113
0
SHARE

कपिल मलिक

मसूरी : उत्तराखंड राज्य आंदोलन के तहत मसूरी गोलीकांड की 25वीं बरसी पर शहीदों को बड़ी संख्या में विभिन्न राजनैतिक दलों, सामाजिक संगठनों, शहीदों के परिजनों व अन्य लोगों ने शहीद स्थल पर जाकर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर सर्वधर्म सभा का आयोजन किया गया व उसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गये।

शहीद स्थल झूलाघर पर प्रातः से ही उत्तराखंड राज्य आंदोलन के तहत मसूरी गोलीकांड के छह शहीदों को श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगा रहा। मसूरी गोली कांड की बरसी पर शहीद स्थल को सजाया गया था। इस मौके पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद अजय भटट ने शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि अब यहां पर मेला लगाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार शहीदों के सपनों के अनुरूप कार्य कर रहे हैं। बहुत कुछ किया व बहुत करने हो है, शहीदों का उत्तराखंड बनाने को भाजपा कृत संकल्प हैं। पलायन रोकने के लिए आयोग का गठन किया व उसकी रिपोर्ट के आधार पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य आंदोलन के तहत मसूरी सहित खटीमा व मुजफफर नगर में गोली कांड किया गया जिसमें आंदोलनकारी शहीद हुए। और इन्हीं की शहादतों की बदौलत राज्य बना, विधायक व सांसद बने। उन्होंने कहा कि यह स्थल पवित्र स्थल है यहां पर आकर सभी को शहीदों को नमन करना चाहिए। लेकिन कुछ लोग इसे अपने स्वार्थ के लिए उपयोग करना चाहते हैं वह नहीं होना चाहिए। इस मौके पर विधायक गणेश जोशी ने शहीदों को नमन करते हुए कहा कि राज्य आंदोलन में मसूरी की अहम भूमिका रही है। लेकिन दुख इस बात का है कि आज यहां अपेक्षित लोग नहीं आये जब कि सबको आना चाहिए था। उन्होंने कहा कि राज्य आंदोलनकारियों ने अपनी शहादत देकर राज्य निर्माण में अहम भूमिका निभाई जिसे कभी भूलना नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि शहीद स्थल के सौदर्यीकरण के लिए उन्होनें प्रयास किया वही इस पर छत डालने की बात पर यहां आपस में विरोधाभाष होने के कारण यह कार्य नहीं हो पाया। अगर सभी लोग चाहेंगे तो यहां छत डाल दी जायेगी। कार्यक्रम में पूर्व विधायक जोत सिंह गुनसोला ने मसूरी के आंदोलन के इतिहास पर प्रकाश डाला व कहा कि मसूरी ने राज्य आंदोलन में बहुत कुछ यातनाएं सही। उन्होंने यह भी कहा कि यह मंच सभी का है शहादत स्थल है यहां पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। विधायक प्रीतमं पंवार ने कहा कि मसूरी गोलीकांड ने राज्य निर्माण में अहम भूमिका निभाई व छह लोगों ने शहादत दी है। उन्हें नहीं भुलाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को शहीदों के सपनों को साकार करने का प्रयास किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अभी राज्य को विकसित करने में समय लगेगा। पूर्व पालिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल ने कहा कि राज्य बनने के बाद आज तक विकास नहीं हो पाया है। जो कि दुर्भाग्यपूर्ण है। इस मौके पर पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने कहा कि यह पवित्र स्थल यहां राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगले वर्ष पालिका यहां मेले को आयोजन करेगी।

इससे पूर्व शहीद स्थल पर शहीद स्मारक समिति के तत्वाधान में सर्वधर्म सभा का आयोजन किया गया जिसमें हिंदू धर्म के पुरोहित, मुस्लिम धर्म के मौलवी, सिख धर्म के ग्रथियों, ईसाई धर्म के पादरी एवं तिब्बती महिला समिति ने अपने धर्मों के हिसाब से शहीदों को श्रद्धांजलि दी साथ ही शहीदों की आत्माओं की शांति व विश्वशांति के लिए प्रार्थना की। इसके बाद संस्कृति विभाग की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। जिसमें कलाकारों ने शहीदों की याद में कार्यक्रम प्रस्तुत किए। इस मौके पर लोक गायक जितेंद्र पंवार ने अपने नये मार्मिक गीत से कार्यक्रम स्थल पर बैठे लोगों को भावुक कर दिया।

शहीद स्थल पर श्रद्धांजलि देने वालों में सांसद व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भटट, विधायक गणेश जोशी, विधायक प्रीतम पंवार, पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता, पूर्व विधायक जोत सिंह गुनसोला, पूर्व विधायक काशी सिंह ऐरी, पूर्व पालिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल, पूर्व पालिकाध्यक्ष ओपी उनियाल, भाजपा मंडल अध्यक्ष मोहन पेटवाल, कांग्रेस अध्यक्ष सतीश ढौडियाल, बलवंत सिह सोनी, सुभाषिनी बत्र्वाल, शहीद बेलमती चैहान, हंसा धनाई, राय सिंह बंगारी, मदनमोहन ममगाई, धनपत सिहं व बलबीर सिंह नेगी के परिजनों सहित विभिन्न राजनैतिक व सामाजिक संगठनों ने शहीदों को पुष्प अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी। इस मौके पर इप्टा की ओर से जनगीत गाये गये। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here