Home अभी-अभी मालरोड की गरिमा लौटाने में पालिकाध्यक्ष का सराहनीय प्रयास।

मालरोड की गरिमा लौटाने में पालिकाध्यक्ष का सराहनीय प्रयास।

899
0
SHARE

कपिल मलिक

मसूरी : मालरोड से पटरी हटाये जाने के बाद अब मालरोड अपने पुराने गौरव की ओर लौट रही है। इन दिनों मालरोड पर 1980 के दशक की याद ताजा हो रही है। वहीं पर्यटक भी मालरोड की गरिमा लौटने से अधिक प्रसन्न हैं।

मालरोड से अतिक्रमण हटाने के लिए पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने जिलाधिकारी को पत्र लिखा जिसके तत्काल बाद प्रशासन, एनएच, लोनिवि व पालिका ने संयुक्त अभियान चलाया व मुख्यमार्गों से अतिक्रमण हटाने का कार्य किया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर पालिका ने मालरोड पर पटरी लगाने वालों को भी विरोध के बाद हटा दिया जिसके कारण मालरोड का गौरव लौट रहा है।अब मालरोड पर अंडा, भुटटा, बाजार नजर नहीं आयेगा। पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता की इस उपलब्घि से मसूरी के नागरिक खुश हैं। वहीं पर्यटक भी बहुत खुश हैं। दिल्ली से आये पर्यटक सुखबीर सिंह का कहना है कि वह दो साल पहले आये थे तब मालरोड नाम की कोई चीज नहीं थी। लेकिन इस बार लग रहा है कि मालरोड अपने पुराने गौरव को लौट गई है। इन दिनों मालरोड पर घूमने आने वाले पर्यटक मालरोड की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं। पंजाब से आये पर्यटक जसविंदर सिंह ने कहा कि वह हमेशा मसूरी आते हैं, लेकिन इस बार का नजारा अलग ही दिख रहा है। अब मालरोड पर पर्यटक आराम से बिना किसी शोर शराबे के घूम रहा है। तथा प्रकृति का आनंद ले रहा है। शहर वासियों का कहना है कि मसूरी के इतिहास में यह पहली बार है जब मालरोड से पटरी उठाने का साहस किसी जनप्रतिनिधि ने किया जब कि आज तक के जनप्रतिनिधियों ने अपने वोट के लिए मालरोड की दुदर्शा करने में सहयोग किया। आज जो पटरी गले की हडडी बन गई थी उसके पीछे जनप्रतिनिधियों ही हाथ रहा है। लेकिन यह पहला मौका है जब पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने पटरी हटाने में अहम भूमिका निभाई व उनके सभासदों ने भी उनका पूरा सहयोग किया। जिससे जनता में उनकी छवि निखरी है। लेकिन इस पर यह देखना होगा कि आगे भविष्य में फिर पटरी न लग पाये। आने वाले समय में पटरी वालों की व्यवस्था की बात की जा रही है तथा उनके लिए वेंडर जोन बनाने की योजना है ताकि कोई मालरोड पर पटरी न लगाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here