Home अभी-अभी मानकों को ताक पर रखकर हो रहा मलवा डंपिंग

मानकों को ताक पर रखकर हो रहा मलवा डंपिंग

148
0
SHARE

जय प्रकाश बहुगुणा

बड़कोट : चैड़ीकरण के नाम पर यमुना नदी को डंपिंग जॉन बना देना स्थानीय लोगों के गले नही उतर रहा है। छंटांगा गांव के पास जमकर मलवा और पत्थर सीधे यमुना में डाला जा रहा है , विभाग ने यमुना को ही डम्पिंग जॉन बनाने की अनुमति देने से लोगों में आक्रोश है जिससे आस्थावन लोगों ने आपत्ती करते हुए एनजीटी को पत्र लिखने की पहल शुरू कर दी है। इधर स्थानीय प्रशासन और वन विभाग द्वारा भी यमुना में मलवा डाले जाने के बाद मौन रहने से स्थानीय लोगों में नाराजगी  है।

मालुम हो कि दिल्ली यमुनोत्री नेशनल हाई वे में आजकल चैड़ीकरण का कार्य चल रहा है , यमुनोत्री की ओर खरादी के पास चैड़ीकरण से निकल रहा मलवा सीधे छंटागा गांव के पास सीधे यमुना नदी में डाला जा रहा है , मलवे से जहाँ यमुना दुषित हो रही है वही हरे पेड़ सहित विघुत की 33 केवी लाईन को क्षति होने का अन्देश होने से स्थानीय लोग आक्रोशित है , देश की आस्थावान नदी यमुना प्रेमी पवन , सुनील , आशीष , दीगवीर , नितिन आदि का कहना है कि यमुनोत्री धाम के लिए रोड़ का चैडीकरण होना चाहिए परन्तु यमुना नदी में मलवा डाला जाना सही नही है , इतना ही नही हमारी आस्था के साथ  छेड़छाड किया जाना और उपर से यमुनोत्री धाम को आने वाली विघुत लाईन को क्षति पहुचानें का यहां पर ठेकेदार द्वारा कार्य किया जा रहा है । अगर यमुना में मलवा डाले जाने का कार्य नही रूका तो एनजीटी को पत्र लिखने के अलावा आन्दोलन किया जायेगा। इधर कार्यदायी संस्था जेएसपी प्रोजेक्ट कम्पनी के प्रोजेक्ट मैनेजर कादिर अहमद ने बताया कि विभाग द्वारा डम्पिंग जॉन चिन्हित कर दिया गया है हमें यहां पर मलवा डालने के लिए बोला गया है इस लिए डाल रहे है। वही अधिशासी अभियन्ता नवनीत कुमार पाण्डेय ने बताया कि यमुना में मलवा डालने का कोई मतलब नही बनता और विभाग द्वारा दस स्थानों को डम्पिंग जॉन बनाकर ठेकेदार को दिया हुआ है अगर यमुना में मलवा डाला जा रहा होगा तो कार्यदायी संस्था पर नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here