Home अभी-अभी भारी बर्फबारी के चलते पर्यटक खुस, गंगोत्री यमुनोत्री राजमार्ग अवरुद

भारी बर्फबारी के चलते पर्यटक खुस, गंगोत्री यमुनोत्री राजमार्ग अवरुद

137
0
SHARE

जय प्रकाश बहुगुणा

बड़कोट : पिछले दो दिनों से लगातार हो रही बारिस व बर्फबारी से गंगोत्री, यमुनोत्री सहित गंगा व यमुना घाटी की पहाड़ियों ने बर्फ की सफेद चादर ओढ ली है।जिससे नजारा दिलकश हो गया है।जिससे नीचे के क्षेत्र में ठंड बढ़ गई है। मंगलवार का दिन उत्तरकाशी के लिए कुछ खाश रहा जब आचानक यहां कि पहाड़ियां बर्फ से लकदक हो गई। भागीरथी घाटी के निचले हिस्सों में लंबे समय बाद हुई बारिश से किसानों के चेहरों मे रौनक लौट आयी है। तो बारिश और बर्फ लोगों के लिये मुश्किलें भी लेकर आई बंफर बर्फबारी से राडी टाप से बडकोट, पुरोला, मोरी मार्ग बंद होने के कारण जिले के करीब 250 गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क काटा है। वहीं, भारी बर्फ़बारी के चलते विद्युत लाइनों के क्षतिग्रस्त होने से जिला मुख्यालय उत्तरकाशी के आसपास सहित यमुना घाट के 300 से अधिक गांव में पिछले 30 घंटों से अंधेरा छाया हुआ है। उत्तरकाशी- देहरादून, लंबगांव मार्ग सहित जिले की दर्जनों सड़कें बंद हैं। खराब मौसम के चलते बर्फ हटाने का कार्य शुरू भी नहीं पा रहा है।

उत्तरकाशी जिले के लागभग हर गांव बर्फ़बारी गी है। जिससे जनजीवन पर भी असर पड़ा है। तापमान में भी भारी गिरावट दर्ज की गई, जिससे कडाके ठण्ड पड़ रही है। उत्तरकाशी शहर में लंबे समय बाद करीब 10 वर्षों बाद हिमपात हुआ, जिसे देखने लोग अपने घरों से बाहार निकले। भारी हिमपात के बाद जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान ने जिला आपदा प्राधिकरण कक्ष में इंसिडेंट रिस्पोंस सिस्टम की आपात बैठक बुलाई।
सोमवार से ही देर सांय को पहाडों पर बर्फबारी व बारिश शुरू हो गई थी। भारी बर्फबारी से यमुनोत्री, गंगोत्री राजमार्ग, राडी टॉप, चौरंगी खाल, सुवाखोली सहित मोरी के कई सडके बंद हो गई। खराब मौसम से जिले का जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त रहा। इधर, डीएम डा. आशीष चौहान ने ने आपदा कन्ट्ररोल रूम में जिले के सभी एसडीएम से रिपोर्ट तलब कर एनएच बडकोट, बीआराओ सहित लोनिवि को सड़के खोलने के निर्देश दिये।

गंगोत्री क्षेत्र के भैरवघाटी, हर्षिल, धराली, भटवाड़ी सहित पूरा क्षेत्र बर्फ की चादर से ढक गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here