Home अभी-अभी प्रीतम भर्तवाण को पदमश्री मिलने पर आयोजित किया सम्मान समारोह।

प्रीतम भर्तवाण को पदमश्री मिलने पर आयोजित किया सम्मान समारोह।

131
0
SHARE

कपिल मलिक

मसूरी : मसूरी के लाल लोक गायक जागर सम्राट प्रीतम भर्तवाण के पदमश्री मिलने पर उनके सम्मान में मसूरी के संस्कृति कर्मियों ने सम्मान समारोह का आयोजन किया तथा उन्हें बुके व स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर बड़ी संख्या में संस्कृति कर्मी मौजूद रहे। इस मौके पर प्रीतम भर्तवाण ने कहा कि अपने घर में मिले सम्मान से बड़ा कोई सम्मान नहीं होता।

लाइब्रेरी स्थित एक होटल में आयोजित सम्मान समारोह में पदमश्री डा. प्रीतम भर्तवाण को शाल, स्मृति चिन्ह व बुके देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ रंगकर्मी व शिक्षाविद मुकेश लाल ने की। इस मौके पर पदमश्री प्रीतम भर्तवाण ने कहा कि मसूरी उनका घर है और यहीं से उन्होंने गीत संगीत की दुनिया में कदम रखा इसलिए यह सम्मान मेरा नहीं बल्कि मसूरी वासियों के साथ ही संपूर्ण उत्तराखंड का है। जिन्होंने मेरे को आगे बढाने में पूरा सहयोग किया। उन्होंने कहा कि पदम सम्मान मिलने से जिम्मेदारी व दायित्व और बढ़ गया है। इस मौके पर पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने कहा कि डा. प्रीतम भाई को पदमश्री मिलने पर पूरे शहर में खुशी है और शीघ्र ही चुनाव के बाद उनके सम्मान में बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक जोत सिंह गुनसोला, पूर्व पालिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल, उत्तराखंड फिल्म एसोसिएशन के महामंत्री राजेंद्र रावत, संस्कृति कर्मी प्रदीप भंडारी, एक्टिव मीडिया प्रेस क्लब के अध्यक्ष सूरत सिंह रावत, व्यापार संघ अध्यक्ष रजत अग्रवाल, लोक गायिका स्वर कोकिला मीना राणा, आदि ने भी अपने संबोधन में प्रीतम भर्तवाण को पदमश्री सम्मान मिलने पर कहा कि यह मसूरी ही नहीं उत्तराखंड को गौरव दिलाया है। वक्ताओं ने कहा कि प्रीतम भाई ने देश विदेश में उत्तराखंड की लोक संस्कृति का परचम लहराया है। कार्यक्रम के अंत में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मुकेश लाल ने कहा कि यह मसूरी वासियों का गौरव है कि प्रीतम भाई जैसे महान गायक मसूरी से हैं। उनके पदमश्री मिलने पर हर किसी को खुशी है। उन्होंने सादगी भरे जीवन में रहकर उत्तराखंड की सांस्कृति विरासत को संजोया ही नहीं उसे आगे बढाया है विशेष कर उत्तराखंड के ढोल को विश्व भर में मान सम्मान दिलाया है। कार्यक्रम का संचालन अनिल गोदियाल ने किया। इस मौके पर पूर्व पालिकाध्यक्ष ओपी उनियाल, गंभीर ज्याड़ा, मीरा सकलानी, प्रोमिला नेगी, चंद्रकला सयाना, अनीता पुंडीर, पुष्पा पडियार,  उमा लाल, जितेंद्र पंवार, त्रिलोक चैहान, जगजीत कुकरेजा, संजय कुमोला, पंकज अग्रवाल सहित बड़ी संख्या में संस्कृति कर्मी व शहर के विभिन्न संस्थाओं के लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here