Home अपराध तीन दिन बाद गुलदार के एक और शावक मृत पाया गया।

तीन दिन बाद गुलदार के एक और शावक मृत पाया गया।

656
0
SHARE

कपिल मलिक

मसूरी : तीन दिन के अंदर गुलदार को दूसरा शावक भी मृत पाया गया। वन विभाग ने सूचना मिलने पर शावक का शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसके शव को जला दिया।

पहाड़ों की रानी में विगत कई दिनों से एक मादा गुलदार अपने दो बच्चों को लेकर रिहायशी इलाके में घूमती देखी गई जिससे सराय व कैमल्स बैक रोड के आस पास रहने वाले लोगें में दहशत का माहौल बन गया था। लेकिन तीन दिनों में दोनों गुलदार के दो शावकों के मृत पाये जाने से हड़कंप मच गया है। जब तीन दिन पहले लक्ष्मी भवन के समीप गुलदार के शावक का शव मिला था तो इस क्षेत्र में रहने वालों में भारी भय व्याप्त हो गया था। वहीं कई लोगों ने मादा गुलदार को बच्चे की तलाश में भटकते देखा भी था। पहले शावक का पोस्ट मार्टम मौके पर ही किया गया था जिसमें उसके मरने का कारण भूख बताया गया था। लेकिन तीन दिन बाद ही दूसरा शावक भी द मसूरी गल्र्स एंण्ड ब्वाइज स्कूल के समीप जंगल में पाया गया जिससे इस क्षेत्र के लोगों में भी भय व्याप्त हो गया। जंगल में गुलदार के शावक के मृत होने की सूचना वन विभाग को देने पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची व शव को कब्जे में लेकर वन विभाग के कार्यालय गई जहां उसका पोस्ट मार्टम किया जायेगा। इस मौके पर मसूरी वन प्रभाग की डीएफओ कहकशं नसीम ने कहा कि लगातार तीन दिनों में दो शावकों के मृत पाये जाने की जांच की जा रही ह ैवहं प्रथम दृश्टया एक शावक की भूख व दूसरे की नमोनिया होन से मृत्यु हुई है। वन क्षेत्राधिकारी विरेंद्र सिंह रावत ने कहा कि तीन दिनों में दूसरा शावक मृत पाया गया जिसका पोस्ट मार्टम किया जायेगा। वहीं क्षेत्र में रहने वाले लोगों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गये हैं। वहीं इस क्षेत्र में रहने वालों का कहना है कि मादा गुलदार अभी भी रिहायशी इलाके में घूम रही है और आज दोपहर भी लक्ष्मी भवन के आसपास देखी गई।

पहाड़ों की रानी मसूरी के चारों ओर जंगल होने के नाते हर वर्ष  किसी न किसी क्षेत्र में गुलदार देखा जाता रहा है लेकिन आज तक ऐसी कोई सूचना नहीं है कि किसी पर हमला किया हो। हालांकि मवेशियों को जरूर अपना शिकार बनाया है। मसूरी के कैमल्स बैक रोड पर विगत कई वर्षों से गुलदार देखा गया है तथा कई लोगों ने देखा है। गत वर्ष संत निरंकारी भवन के सीसीटीवी कैमरे में भी गुलदार कैद हुआ है। वहीं स्प्रिंग रोड पर आईटीबीपी क्षेत्र व उसके आसपास के क्षेत्र में भी कई बार गुलदार देखा गया है। इसी कड़ी में कंपनी बाग के उपरी इलाके सहित अन्य इलाकों में भी गुलदार देखा जाता रहा है। गत वर्ष चमन स्टेट क्षेत्र में भी एक गुलदार का शव मिला था। लेकिन इन दो शावकों के शव होने से लोगों में भय व्याप्त हो गया है। हीरा भवन में रहने वालों ने आज सुबह मादा गुलदार को देखा व जब हल्ला मचाया तो वह कूद कर जंगल की ओर भाग गई। जिसके बाद वन विभाग फोन किया गया व वहां से एक दल जंगल में कंबिंग कर गुलदार का पता लगा रहा है जो अपने साथ जरूरी उपकरण व पटाखे आदि भी ले जा रखे हैं। वहीं वन विभाग ने नगर पालिका से आसपास के क्षेत्र से झाड़ी काटने को कहा है ताकि बस्ती के आसपास सफाई रहे व अगर गुलदार आता भी है तो दूर से पता चल जाय व लोग घरों में चले जाय। क्यों कि मादा गुलदार अपने दो बच्चों को खोने के बाद निश्चित ही आका्रेश में होगी व उसके हमला करने का भय बना हुआ है जिस कारण इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों में भय व्याप्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here