Home अभी-अभी डब्ल्यूआईसी इंडिया में विदुर मल्लिक संगीत समारोह का समापन, समापन समारोह में...

डब्ल्यूआईसी इंडिया में विदुर मल्लिक संगीत समारोह का समापन, समापन समारोह में पहुंचे कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज

208
0
SHARE

देहरादून : राजपुर रोड स्थित डब्ल्यूआईसी इंडिया में दो दिवसीय 9वें पंडित विदुर मल्लिक संगीत समारोह का शानदार समापन हुआ। कार्यक्रम में उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री व भारतीय जनता पार्टी के नेशनल एग्जीक्यूटिव मेंबर सतपाल महाराज बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहे। समारोह के दूसरे दिन भारतीय शास्त्रीय संगीत कलाकार डागर व ध्रुपद शैली गायक अभिजीत सुखदाणे ने राग मुल्तानी में चौताल की प्रस्तुति दी। उनके साथ पखावज पर पं. अनिल चौधरी ने संगत दी। अभिजीत सुखदाणे मध्य प्रदेश के संस्कृति विभाग के अंतर्गत राजा मानसिंह तोमर म्यूजिक आर्ट यूनिवर्सिटी ध्रुपद केंद्र के निदेशक हैं।

उसके बाद पखावज वृन्द व मीडिअन रिद्म तालवाद्य के रचनाकार पंडित अखिलेश गुंडेचा ने मधुर गायन से सभी श्रोताओं से खूब तालियां बटोरी। उनके साथ अनुजा बोरूदे ने पखावज पर व अनुराग मिश्रा ने हारमोनियम पर संगत दी। समारोह के आखिरी दिन पंडित प्रेम कुमार मल्लिक व प्रशांत व निशांत मल्लिक (मल्लिक ब्रदर्स ) द्वारा ध्रुपद ट्रीओ की जुगलबंदी आकर्षण का मुख्य केंद्र रहा। उन्होंने राग अभोगी कान्हड़ा धमाड़ बोल बृज में देखो धूम मची व राग किरवानी में सूलताल निब्बद शंकर शिव की प्रस्तुति से संगीत प्रेमियों की खूब वाहवाही बटोरी। गुरू शिष्य की इस प्रस्तुति ने श्रोताओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। उनके साथ पखावज पर पं. अनिल चौधरी व गौरव शंकर उपाध्याय ने संगत देकर समारोह में चार चांद लगा दिये। पंडित प्रेम कुमार मल्लिक प्रख्यात संगीत परिवार दरंभगा घराने के सदस्य है, और इस संगीतमय वंश की 12वीं पीढ़ी के प्रतिनिधि है। दरभंगा घराने के प्रशांत व निशांत मल्लिक (मल्लिक ब्रदर्स) ध्रुपद जुगलबंदी के प्रसिद्ध कलाकार, आॅल इंडिया रेडियो व दूरदर्शन के ए ग्रेड कलाकार हैं।

डब्ल्यूआईसी इंडिया भारतीय संस्कृति व विरासत को सहेजने का कार्य करता है। कार्यक्रम के अंत में सभी कलाकारों को स्मृति चिन्ह भेंट किये गये। सभी श्रोताओं ने आयोजन की प्रशंसा की। इस अवसर पर कई संगीत प्रेमियों सहित गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here