Home अभी-अभी गीत के माध्यम से बेटियों के साथ भेदभाव को मिटाने का दिया...

गीत के माध्यम से बेटियों के साथ भेदभाव को मिटाने का दिया संदेश (साभार – मोहित नौटियाल)

273
0

सोनू उनियाल

चमोली : भारतीय समाज में आज भी बेटियों को बोझ और अभिशाप माना जाता है। बेटियों की इस पीड़ा को उजागर करता सोनिया जोशी के गाये पुकार गीत को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। सोनिया ने इस गीत के माध्यम से भ्रूण हत्या न करने और बेटियों के साथ भेदभाव को मिटाने का संदेश दिया है।
उन्होंने संदेश दिया है कि देशभर में बेटियां हर क्षेत्र में अपने नाम का लोहा मनवा रही हैं। उच्च पदों पर आसीन होकर पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। साथ ही उन लोगों के मुंह पर तमाचा जड़ रही हैं जो बेटियों को बोझ समझते हैं। वहीं समाज में ऐसे भी लोग हैं जो आज के दौर में भी बेटियों को अभिशाप मानते हैं और दुनिया देखने से पहले ही उनकी आंखों को बंद कर देने की सोच रखते हैं।

समाज की इसी सोच को बदलने के लिए उत्तराखंड पुलिस में महिला कॉन्स्टेबल रुद्रप्रयाग की सोनिया जोशी ने भ्रूण हत्या और बेटियों के साथ हो रहे भेदभाव पर आधारित उत्तरकाशी के अरविंद भारद्वाज की लिखी डॉक्यूमेंट्री पुकार को अपनी आवाज देकर बेटियों के इस दर्द को समाज के सामने लाने का प्रयास किया है। “तेरे प्यार—दुलार की छाया मैं भी तो चाहती थी माँ, चहक—चहक चिड़ियां सी उड़ना मैं भी तो चाहती थी माँ“ गीत की यह लाइन किसी को भी भावुक कर देने वाली हैं। इसमें रुहान भारद्वाज और अर्पित शिखर ने संगीत दिया है।

“अच्छी लेखिका भी हैं सोनिया”
बता दें कि सोनिया सामाजिक मुद्दों पर गाना गाने के साथ—साथ बहुत अच्छा लिखती भी हैं। गीत को सोशल साइट्स पर खूब पसंद किया जा रहा है। बहुत कम समय में हजारों लाइक और कॅमेंट्स मिल रहे हैं। पुलिस जैसी चुनौतीपूर्ण सेवा में रहते हुए भी सोनिया जोशी समय निकालकर अपनी आवाज से समाज को नई दिशा देने का काम रही हैं। वहीं प्रशंसक भी सोनिया की तारीफ़ करने से नहीं चूक रहे हैं। यह गाना रुहान भारद्वाज के यूट्यूब चैनल और उत्तराखंड पुलिस के ऑफिशियल पेज पर रिलीज किया गया है।
बेटियों के साथ हो रहे भेदभाव और बढ़ते महिला अपराधों पर रोकथाम को लेकर सोनिया लंबे समय से प्रयासरत है। इसी संबंध में उन्होंने अरविंद भारद्वाज से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने प्रताप सिंह, सुनील भारती, सुमन जोशी, खेमराज दिल्लगुड़ी, पूजा भारद्वाज, प्रतिभा पाठक और सिया राठौर आदि कलाकारों की मदद से पुकार डॉक्यूमेंट्री तैयार की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here