Home अपराध कन्या विद्यालय के भवन पर कब्जा, प्राथिमिकी दर्ज की, पुलिस ने कब्जा...

कन्या विद्यालय के भवन पर कब्जा, प्राथिमिकी दर्ज की, पुलिस ने कब्जा हटाया।

51
0
SHARE

कपिल मलिक

मसूरी : लाइब्रेरी कैमल्स बैक रोड स्थित राजकीयपूर्व माध्यमिक कन्या विद्यालय के लाइब्रेरी का ताला तोड़कर कब्जा कर लिया गया जब होली के अवकाश के बाद जब विद्यालय खोला गया तो यह देख हैरान हो गये। जिसकी प्राथमिकी कोतवाली में लिखाई गई व पुलिस ने मौके पर पहुंच कर विद्यालय भवन का कब्जा वापस दिला दिया।

लाइब्रेरी स्थित राजकीय पूर्व माध्यमिक कन्या विद्यालय के प्रधानाचार्य एलडी जोशी ने बताया कि 19 मार्च को वह विद्यालय की छुटटी होने पर विद्यालय को बंद कर गये थे बीस को छोटी व 21को बड़ी होली की छुटटी थी ज बवह 22 मार्च को विद्यालय पहुंचे तो विद्यालय की लाइब्रेरी में ताला लगा था जिस पर उन्होंने अपने उच्चाधिकारियों को अवगत कराया व उन्होंने प्राथमिकी दर्ज करने को कहा जिस पर उन्होंने प्राथमिकी दर्ज की। बाद में पता चला कि यह ताला वरिष्ठ नागरिक समिति ने लगा कर विद्यालय की संपत्ति पर कब्जा किया है जब उनके पदाधिकारियों से वार्ता की तो उन्होंने कहा कि यह हाल नुमा कमरा अध्यक्ष नगर पालिका ने उन्हें दिया है जिसका लिखित पत्र उनके पास है। जबकि विद्यालय के प्रधानाचार्य का कहना था कि यहां लाइब्रेरी थी लेकिन भवन जर्जर होने के कारण इसे बंद किया गया था व लाइबे्ररी दूसरे कमरे में बनाई गई। इस संबंध में जब वरिष्ठ नागरिक समिति के महासचिव एनके साहनी ने कहा कि नगर पालिकाध्यक्ष ने यह स्थान वरिष्ठ नागरिक समिति को आवंटित किया है। लेकिन कोई ताला नहीं लगाया। अगर स्कूल की संपत्ति है  और उसका उपयोग वह कर रहे हैं तो हमें यह नहीं चाहिए। वहीँ कहा कि हमें बताया गया था कि यह संपत्ति पालिका की है और गत 35 वर्ष से खाली पड़ी है जिस पर सोचा कि इसमें फीजियोथेरेपी सेंटर खोला जाय। वहीं पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता का कहना है कि उन्होंने पालिका की संपत्ति वरिष्ठ नागरिक समिति को दी है स्कूल की संपत्ति नहीं अगर उन्होंने वहां कब्जा किया है तो वह सही नहीं है। उन्होंने कहा कि वह पालिका के अधिकारी को भेज कर जांच कराई जायेगी व पता लगाया जायेगा कि वरिष्ठ नागरिक समिति ने कहां कब्जा किया है। इस संबंध में सभासद गीता कुमाई ने कहा कि सरकारी स्कूल की संपत्ति पर कब्जा नहीं होने दिया जायेगा अगर कोई ऐसा करता है तो विरोध किया जायेगा। जबकि सरकारी स्कूल में गरीबों के बच्चे पढ़ते हैं उनका सहयोग करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here