Home अभी-अभी आपसी सामंजस्य से निपटे बनाग्नि से-डीएम

आपसी सामंजस्य से निपटे बनाग्नि से-डीएम

72
0
SHARE

जय प्रकाश बहुगुणा

उत्तरकाशी : जिला स्तरीय वनाग्नि सुरक्षा समिति की बैठक लेते हुए जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान ने कहा कि सभी विभाग सामंजस्य बनाकर वनाग्नि से सामूहिक तौर पर रणनीति बनाकर निपटना होगा। उन्होंने कहा कि विगत वर्षो में जिन वन क्षेत्रों में आग लगती रहती है उन्हें चिन्ह्ति करें। ताकि उन संवेदनशील क्षेत्रों में पैनी नजर रखी जा सके। उन्होंने जंगलों, सड़कों जंगल से लगे गांवों के किनारे फायर लाईन काटने व कंट्रोल फायर कार्य प्रारम्भ करने के निर्देश प्रभागीय वनाधिकारियों को दिए।

    जिलाधिकारी /अध्यक्ष अग्नि सुरक्षा समिति  चौहान ने कहा कि ग्राम वन पंचायत, ब्लॉक स्तरीय अग्नि सुरक्षा समितियों को अभी से सक्रिय किया जाए तथा विद्यालयी बच्चों, स्वंयी सेवी संस्थाओं, महिला व मंगल दलों के माध्यम से जनता को वनाग्नि से होने वाले नुकसान व दुषपरिणामोंके प्रति जागरूकता फैलायी जाए। उन्होंने कहा कि वनाग्नि से लोगों के घर जलते हैं मानवीय क्षति होती है वहीं जल स्त्रोत सुखते हैं वन्य जीव के नुकसान के साथ ही उनके वास स्थलों की भी क्षति होती है वहीं पर्यावरण पर भी कुप्रभाव पड़ता हैं व ग्लोबल वार्मिग भी बढ़ती हैं। इसलिए जनजागरूकता व वनाग्नि नियंत्रण में जन सहयोग अति आवश्यक हैं। उन्होंने कहा कि अच्छी घास के लिए भी वनों में आग लगाना भी प्रकाश में आया हैं जो गलत बात हैं। उन्होंने जंगलों में आग लगाने वाले शरारती तत्वों पर पैनी नजर रखते हुए वनों में आग लगाते हुए पाये जाने पर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए।उन्होंने जनता व राहगीरों से अपील की कि वे अपने खेतों, मेड़ो आदि जगहों पर आग जलाते है तो उसे अच्छी तरह बुझाये तथा राहगीर जलती बीड़ी, सीगरेट रास्तों में कतई न फेकें।

    जिलाधिकारी ने कहा कि वनाग्नि से शीघ्र निपटने हेतु गांव स्तर तक के जनप्रतिनिधियों प्रधानों स्वंय सेवी संस्थाओं के फोन नम्बर संकलित किए जाय। ताकि शीघ्रता से अग्नि की सूचना प्राप्त हो सके व उनका सहयोग लिया जा सके। उन्होंने कहा कि आग नियंत्रण हेतु जो उपकरण है उन्हें चिन्ह्ति कर लिए जाए तथा जिन उपकरणों  की आवश्यकता हैं उन्हें शीघ्र खरीद लिए जाए। उन्होंने कहा कि वनाग्नि सम्बन्धित सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान हो इसके लिए पुख्ता संचार व्यवस्था बनाई जाए व क्रू स्टेशनों के साथ ही कंट्रोल रूम को समय से सक्रिय किया जाए।

        प्रभागीय वनाधिकारी संदीप कुमार ने बताया कि जनपद में वनाग्नि नियंत्रण हेतु 137 क्रू स्टेशन बनाए जाएंगे तथा वनाग्नि प्रबन्धन एवं नियंत्रण विभिन्न सूचनाओं का संकलन कर सूचना पुस्तिका बनाई जाएगी। उन्होंने बताया कि जनपद स्तर से पंचायत स्तर तक के अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों, स्वंय सेवी संस्थाओं महिला व युवा मंगल दलों आदि के मोबाईल नम्बरों का संकलन किया गया हैं फोन नम्बरों की सूची को सभी को उपलब्ध करायी जाएगी। ताकि वनाग्नि में त्वरित कार्यवाही की जा सकेगी।

     बैठक में  पुलिस अधीक्षक ददनपाल, मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त आर्य, मुख्य चिकित्साधिकारी डा. विनोद नौटियाल, अपर जिलाधिकारी हेमंत वर्मा, डीएफओ विनोद कुमार सिंह, विजय बहादुर सिंह, जेपी सिंह, आरपी मिश्रा, उप जिलाधिकारी सौरभ असवाल सीओ मनोज ठाकुर, मुख्य शिक्षाधिकारी आरसी आर्य, नागेन्द्र थपलियाल,प्रताप पोखरियाल, आईटीबीपी,एसडीआरएफ,बी आर ओ,आदि अधिकारी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here