Home अभी-अभी अस्पताल की लापरवाही से महिला की मौत, परिजनों ने हंगामा काटा।

अस्पताल की लापरवाही से महिला की मौत, परिजनों ने हंगामा काटा।

969
0
SHARE
??

कपिल मलिक

मसूरी : नगर पालिका में सेवारत पर्यावरण मित्र महिला कर्मचारी सविता उम्र 51 वर्ष की लंढौर कम्युनिटी अस्पताल से हिमालयन हास्पिटल जौलीग्रांट ले जाते हुए लंढौर साउथ रोड पर ही मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि अस्पताल ने पैसा लेकर खाली आक्सीजन का सिलेंडर लगा दिया जिसके चलते वह सांस नही ले पाई और मौत हो गई। मौत होने पर परिजनों ने अस्पताल में हंगामा काटा वहीं चिकित्सक ने मीडिया कर्मियों के साथ अभद्रता की।

लंढौर राजमंडी निवासी पालिका कर्मी सविता लंबे समय से बीमार है जो हिमालयन हास्पिटल जौली में भर्ती थी जिसे बेटे की शादी होने के कारण मसूरी लाया गया व लंढौर कम्युनिटी अस्पताल भर्ती कराया गया। व उसके बाद उसे हिमालयन अस्पताल ले जाना था जिस पर उन्हें आक्सीजन के सहारे ले जाना था। परिजन सरोज का कहना था कि उन्होंने अस्पताल को 55 हजार का बिल दिया व आक्सीजन सिलेंडर के तीन हजार रूप्ये अलग से दिए। व संत निरंकारी मंडल की एंबुलेंस बुलाकर देहरादून के लिए जैसे ही चले कि लंढौर साउथ रोड पर पहुंचते ही उनकी तबियत बिगड़ गयी व सांस लेने में परेशानी होने लगी जब देखा तो आक्सीजन का सिलेंडर खाली था। और देखते ही देखते महिला ने दम तोड़ दिया जिसके कारण घर में कोहराम मच गया। और सभी लंढौर कम्युनिटी अस्पताल पहुंचे व जमकर हंगामा काटा। वहीं घटना की सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंची वहीं हंगामें की कवरेज कर रहे पत्रकारों के साथ भी चिकित्सक डा. जार्ज ने अभद्रता की। जिस पर पुलिस ने चिकित्सक व मृतक के परिजनों को आपस में बात करने की सलाह दी। वहीं महिला के परिजनों का कहना था कि अस्पताल की लापरवाहीं के कारण महिला की जान गई है उन्हें न्याय चाहिए। पैसे लेने के बाद भी आक्सीजन का खाली सिलेंडर क्यों दिया गया। इसं संबंध में एंबुलेंस के चालक जयपाल सिंह ने भी कहा कि आक्सीजन का सिलेंडर खाली था यह अस्पताल की घोर लापरवाहीं है अन्यथा मरीज की जान नहीं जाती। एसएसआई मोहन सिंह ने बताया कि मामले की जानकारी होने पर वह मौके पर पहुंचे व जो बताया गया उसके अनुसार दोषियों पर कार्रवाई की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here