Home अभी-अभी पाकिस्तान कभी भी भारत से युद्ध नहीं जीत सकता- एसपी चमोली।

पाकिस्तान कभी भी भारत से युद्ध नहीं जीत सकता- एसपी चमोली।

146
0
SHARE

कपिल मलिक

मसूरी : भारतीय सेना में कैप्टन रह चुके आईटीबीपी के सेवानिवृत्त डीआईजी एसपी चमोली ने कहा कि पाकिस्तान कभी भी भारतीय सेना का सीधी लड़ाई में मुकाबला कभी नहीं कर सकता वह हमेशा ही क्षद्म तरीके से मुजाहिदीन, अलगाव वादियों व आतंकवादियों के सहारे भारत पर कायराना हमला करता रहता है। लेकिन इस बार भारत से उसे माकूल जबाब दिया तथा उसकी बोलती बंद कर दी।

सेवानिवृत्त डीआईजी एसपी चमोली ने बताया कि 1965 में वह भारतीय सेना में कैप्टन के पद पर थे व कश्मीर में उच्चहिमालयी क्षेत्र में विशेष प्रशिक्षण ले रहे थे। उस समय भारतीय सेना चीन युद्ध के बाद चीन से निपटने के लिए तैयारी कर रही थी तब पाकिस्तान ने सोचा कि इस समय भारत चीन युद्ध के बाद कमजोर हो गया है तो उसने मुजाहिदीन के साथ मिलकर सीमा पर छद्म युद्ध शुरू कर दिया। उस समय हम प्रशिक्षण ले रहे थे हमारे पास हथियार भी नहीं थे। उस समय जब हमारे कर्नल हमें प्रशिक्षण दे रहे थे तभी पाकिस्तान की सीमा से गोली चली और हमारे एक अधिकारी शहीद हो गये। हमने तुरंत अपने को सुरक्षित रखने के लिए पोजीशन ली लेकिन तब हमारे पास हथियार नहीं थे लेकिन अगले दिन हथियार पहुंच गये और कश्मीर घाटी में युद्ध हो गया जिसमें पाकिस्तार को बुरी तरह हराया व खदेड़ा तथा कई जवानों को हिरासत में लिया था। उन्होंने कहा कि सीधे युद्ध में पाकिस्तान कभी हमसे जीत नहीं सकता इसलिए वह अलगाववादियों, आतंकवादियों के साथ मिलकर छदम युद्ध करता है। ताकि भारत परेशान रहे। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने 1971 में  भी भारत पर हमला किया तो उसे मुंह की खानी पड़ी और तब भारत ने 80 हजार से अधिक सैनिकों को आत्म समर्पण करवाया। उन्होंने कहा कि भारत के सैनिकों को आत्मविश्वास व हौसला बहुत बड़ा है और इस बार जिस तरह पूरा देश सेना के साथ खड़ा है ऐसे में तो उनका मनोबल आसमान छू रहा है। उन्होंने कहा कि आज भी अगर उनकी जरूरत देश हो पड़ी तो वह सीमा पर जाने को तैयार हैं। क्यों कि जवान हमेशा जवान रहता है। उसके अंदर जो देश भक्ति का ज्वार रहता है वह कभी ठंडा नहीं पड़ सकता। एसपी चमोली ने कहा कि पाकिस्तान के पुलवामा हमले के बाद जो बदला भारत ने लिया यह सदियों तक याद रखा जायेगा। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बधाई के पात्र हैं जिन्होंने पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए सेना को पूरी छूट दी है। इससे पूरे विश्व में भारत का नाम रौशन हुआ है। और इससे आज पूरा देश देशभक्ति के जज्बे से लबालब है, पूरे देश से पूरा समर्थन मिल रहा है। मालूम हो कि एसपी चमोली ने भारतीय सेना में कमीशन लिया व उसके बाद 1967 में आईटीबीपी में बतौर डेपुटेशन पर गये और फिर वहंी के होकर रह गये। उन्होंने 1994 में राज्य आंदोलन के लिए डीआईजी पद से वीआरएस ले लिया व राज्य आंदोलन की लड़ाई मे कूद गये। उन्होंने आईटीबीपी में रहते कई कीर्तिमान बनाये जो आज तक नहीं टूटे। उन्होंने रीवर राफटिंग, पर्वतारोहण, पदारोहण, स्कीइंग आदि में देश का नाम पूरे विश्व में रौशन किया व कई पुस्तकें भी लिखी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here